Chanakya Niti Hindi, Ethics of Chanakya Mall

Chanakya Niti Hindi, Ethics of Chanakya Mall

Chanakya Niti Quotes mall in Hindi Ethics of Acharya images Kautilya thoughts To Live a Successful Life by Mentor Chanakya  
 

Chanakya Niti in Hindi हिंदी में चाणक्य निति: 

Ethics of Chanakya Mall

 

हिंदी राजनीति, ज्योतिष, अर्थनीति, समाजनीति और कृषिनीति के शीर्ष पर रहे आचार्य चाणक्य और, वो चाणक्य ही थे जिनके रहते, भारत में आचार्य चाणक्य और चन्द्रगुप्त की सेना से, वह कभी न जीत सका जबकि सिकंदर ने, पूरी दुनिया तो जीत ली थी|

Advertisement

 
आचार्य चाणक्य कौटिल्य, किसी भी मनुष्य का चेहरा देखकर, जान लेते थे की वह इंसान , क्या सोच रहा है?
 
Chanakya Niti Hindi, Ethics of Chanakya Mall
Chanakya Images 
 
आचार्य कौटिल्य चाणक्य ने अपनी जिंदगी में कुछ किताबें लिखे जिनमे से, एक किताब का नाम है – चाणक्य नीति 
 
और ये किताब, हर उस इंसान को पढ़ना बहुत ही आवश्यक है जो अपनी जिंदगी में, कुछ बड़ा हासिल करना चाहता है, क्योंकि चाणक्य ने  बहुत बड़े बड़े काम किये, और उन्होंने जिंदगी में, जो कुछ भी सीखा, उसे चाणक्य नीति में लिख दिया| 
 
Chanakya Niti Hindi, Ethics of Chanakya Mall
Chanakya Wrote

 

और इसलिए किसी भी इंसान के लिए, जोकि सफल होने की इच्छा रखता है, उस इन्सान को, ये किताब अवश्य ही पढ़ना चाहिए क्योंकि आजकल लोगों के पास, किताबें पढ़ने का समय नहीं होता| 

 
इसलिए हम कौटिल्य चाणक्य की नीतियों के बारे में, यहाँ आपके सामने पेश कर रहे हैं- तो पढ़िए और समझिये…
 

Chanakya niti in hindi

कभी किसी दूसरे व्यक्ति को अपने लक्ष्य, नहीं बताने चाहिये| उस लक्ष्य को अपने तक, सीमित रखना चाहिए जैसे ये कोई खुफिया बात हो और इनके ऊपर काम भी करना चाहिए बिना, किसी हो हल्ला के, और किसी को भी बताये बिना|
Chanakya Quotes in Hindi
 

छोटी छोटी बूंद को इकठ्ठा करने से, पूरा जग भर जाता है और बिल्कुल इसी तरह से ज्ञान और पैसे का भी हम, संग्रह कर सकते हैं|

 
अगर किसी को आराम चाहिए तो उसे ये सोचना बंद कर देना चाहिए की वो कुछ सीख सकता है, लेकिन अगर उसे कुछ सीखना है तो फिर उसे आराम के पीछे नहीं भागना चाहिए|
 
चाणक्य मुख्य रूप से, हमें बताते हैं की दूसरे लोगों को, हम कैसे नियंत्रण में कर सकते हैं, अगर आपको किसी को अपने नियंत्रण में करना है, तो आपको पता होना चाहिए, क्या चीज उन्हें प्रेरित करती है और फिर आपको उस चीज को, उनके लिए प्रयोग करना चाहिए| 
 
उदहारण के तौर पर, एक लालची मनुष्य को, आप पैसे की मदद से, नियंत्रित कर सकते हैं| अगर आप पैसा, उसके सामने रख दें तो, वो मनुष्य आपका हर काम करेगा| 
 
एक क्रोधी इंसान को ये चाहिए होता है की वो दूसरों से ज्यादा, ऊपर महसूस करे और ज्यादा सुपीरियर फील करे तो अगर आप, उसे ऐसा महसूस करा दें तो, आप जो भी चाहते हैं आप उससे वो काम करवा सकते है| 
 
लेकिन एक बेवकूफ इंसान को नियंत्रित करने का, अलग तरीका होता है| 
 
यहाँ पर चाणक्य का मतलब बेवकूफ से ये है, एक इंसान जिसे दुनिया के बारे में नहीं पता होता है अगर आप ऐसे इंसान को, दुनिया के बारे में, छोटी सी चीज भी सिखायेंगे या उसके सामने कोई बड़ा सा भाषण देंगे, तो उसे लगेगा की, अरे यार इस इंसान ने तो मुझे कितना सिखा दिया, और वो समझेगा की आप बहुत ज्ञानी व्यक्ति हैं और वो आपकी बातें मानने लगेगा| 
 
लेकिन अंत में चाणक्य ने ये जरुर बोला है की एक पढ़े लिखे इंसान को प्रभावित करने का एकमात्र सही तरीका है उसको सच बताने का, क्योंकि अगर आप कोई और चीज ट्राई  करेंगे तो उसको समझ में आ जायेगा की आप झूंठ बोल रहे हैं| 
 
इसलिए हमारा लक्ष्य भी ये होना चाहिए, जितना पढ़े लिखे बन सकते हैं, उतना बन जाए ताकि दूसरे लोग हमको कण्ट्रोल नहीं कर सके|
 
अगला पॉइंट सच और बहुत ही स्पष्ट है की, हम लोग अकेले इस दुनिया में आतें हैं और अकेले ही जाते हैं| 
 
तो इसलिए सबसे महत्वपूर्ण चीज, जो हम लोग अपनी जिंदगी में कर सकते हैं, वो ये है, की हम लोग अपने आपको इम्प्रूव करें| 
 
किसी और के ऊपर अपने आपको निर्भर नहीं करना चाहिए, अपनी सारी जरूरतों के लिए क्योंकि कभी न कभी, हर कोई मर जाता है या आगे बढ़ जाता है, आपकी जिंदगी से लेकिन आप ही वह इंसान हैं जो अपने साथ रहेगा, मरते दम तक!  
 
इसलिए जितना संभव हो सके, आप अपने ऊपर निर्भर रहने का यत्न करें, उतना ही बेहतर है| 
 
इसका अर्थ ये बिल्कुल भी नहीं है की, आपको हर किसी से दूरी बना लेनी है बल्कि ये याद रखना चाहिए की, हर वस्तु जो कुछ भी है हमारे पास इस जिंदगी में, वो सब अस्थायी है, ये कोई घटिया या अच्छी चीज नहीं है ये तो बस संसार की सच्चाई है|
 
दिमाग से तेज़ होना ही असली शक्ति है|
 
आप साइज़ में कितने बड़े हैं इससे फ़र्क नहीं पड़ता है| बहुत प्रसिद्ध कहानी है, जहाँ पर चींटी एक हाथी को परेशान कर देती है उसकी नांक के अन्दर घुसकर| 
 
इसी तरह से कोई फ़र्क नहीं पड़ता आप इस दुनिया में कितने बड़े हैं सिर्फ इससे फ़र्क पड़ता है की आपका दिमाग, कितना तेज़ है| 
 
अगर आपको इस चीज का सबूत चाहिए तो आप गूगल पर सर्च कर सकते हैं, दुनिया के सबसे अमीर लोगों में से, कोई भी द ग्रेट खली के जैसे नहीं दिखतें हैं| 
 
ये इसलिए क्योंकि एक तेज़ दिमाग, किसी भी तरह के साइज़ से ज्यादा महत्वपूर्ण है|
 
डेविड और गुलायथ बिग, बहुत फेमस स्टोरी है जहाँ पर डेविड ने गुलायथ को हराया था, जो एक बहुत बड़ा दानव था सिर्फ इसलिए की डेविड ने, अपने दिमाग का प्रयोग किया था|  
 
तो जरुर ये याद रखना चाहिए की आपको अपना दिमाग तेज़ रखना चाहिए,  क्योंकि यही आपकी जिंदगी की, सबसे बड़ी संपत्ति है|
 

chanakya mall:Chanakya Niti Hindi

हर कोई गलती करने के बाद पछताता तो जरुर है लेकिन हम लोगों के पास ज्ञान पहले से होता तो, वो गलती हमसे होती ही, नहीं| 
 
इसलिए हमारा मानना है की, रीडिंग इतना ज्यादा महत्वपूर्ण है, आप अगर किताबें पढ़ेंगे तो आप बहुत जल्दी सीख सकते हैं की, दूसरे लोगों ने क्या गलतियाँ करी हैं और आप उस गलती से बच सकते हैं| 
 
जब भी आप लोगों से बात करिए, जिन्होंने कोई महत्वपूर्ण काम किया है या अगर आप किसी फेमस इंसान की ऑटो बायोग्राफी पढ़िए तो जरुर उन चीजों पर ध्यान दीजियेगा की उन्होंने कौन सी गलतियाँ करीं और आप फिर ये ठान लीजियेगा की, आप वो गलतियाँ नहीं करेंगे|
 
ये कहा जाता है की आप गलतियों से ही सीखतें हैं लेकिन ये जरूरी नहीं है की, वो गलतियाँ आपकी ही हों|
 
चाणक्य अपनी ये निति, एक सवाल के रूप में बोलते हैं की जितनी भी किताबें या Scripture हैं, वो एक ऐसे इंसान की मदद कैसे कर सकते हैं, जिसके पास अपना खुद का कॉमनसेंस न हो ? 
 
इसी तरीके से एक अंधे आदमी  के लिए दर्पण का कोई यूज़ नहीं है| चाणक्य का मानना है की अगर आप खुद से स्मार्ट नहीं हो और आपका खुद का कॉमनसेंस नहीं है, तो जितना भी ज्ञान, आपको दे दिया जाए, वो बेकार है| 
 

Ethics of Chanakya, Chanakya ethics

हमारा ये मानना है की चाणक्य, यहाँ पर कॉमनसेंस की ही, बात कर रहे हैं|
 
हम सबको अपना कॉमनसेंस, इतना बढ़ाना होगा ताकि हम, खुद से ही समझ पाए की, कैसे, इस तरह के ज्ञान को, अप्लाई करना है| 
 
ज्यादातर लोग ऐसे बन जाते हैं, जैसे एक बाल्टी हो और उसमे एक छेद हो| चाहे आप जितना पानीउस बाल्टी में डाल दें, अगर उस बाल्टी में छेद है तो सारा पानी, उस छेद से निकलकर बाहर चला जायेगा| 
 
इसलिए आपको सीखना होगा की, आप अपने खुद के दिमाग का प्रयोग कैसे कर सकते हैं और फिर आप जितनी भी ज्यादा किताबें पढ़ेंगे वो आपको और ज्यादा मदद करेंगी|
 
एक और बेहतरीन दिन! 
 
धन्याद, आशा है की आपका दिन शानदार गुजरेगा|
 
Chanakya Niti Quotes in Hindi Ethics of Acharya Kautilya thoughts To Live a Successful Life Mentor Chanakya mall images 
 
Chanakya Niti Hindi ethics of chanakya mall,chanakya niti in hindi,ethics of chanakya, chanakya mall, chanakya  Kautilya, acharya chanakya , chanakya quotes in hindi, chanakya images, thoughts of chanakya, hindi chanakya, kautilya chanakya, Chanakya thoughts, Chanakya images, images of Chanakya, quotes chanakya

 

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *